घर-घर

//

घर-घर

खेल ही समझा था

जब तक

बूँद-बूँद कर

घुला न था बचपन

मैले कपड़ों

झाड़-पोंछ

जूठे  बर्तनों में,

और उसमे

जिसे प्यार

कह देते हैं

 

अब यह

कोई खेल नही

नहीं टूटते यहाँ

कोई खिलौने

रोज़ टूटती-जुड़ती

अब मैं ही

अपनी गुडिया !

 

 

Advertisements

Aapki Pratikriyaein

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s