सवाल

14991418_10211630992716292_3815340861971731481_o

My Late father , long before he was my father 

Image : Perosnal collection copyright

कैसा था वो सरहद पार का आपका बचपन
वो झेलम में तैरना , पहली बार सुनना रेडियो
देखना बिजलीवाले बल्बों का जादू
और फिर एक दिन बेघर होकर
लाशों से भरी रेल में
समझना रिफ्यूजी होने का मतलब

कैसा था वो नए देश में नयी आज़ादी का स्वाद
नया -नया लड़कपन ,पहली बड़ी साइकिल की चमक
पहला वोट,पहला प्यार ,पहली नौकरी
पहली सिगरेट ,पहली शायरी
ब्लैक एंड वाइट फिल्मों वाला दीवानापन

कैसा था आपका सफर -बेटे,भाई ,पति होने का
कैसे बदली थी आपकी मर्दानगी
जब मार्च की एक शाम
मेरे होने ने बनाया आपको मेरा पिता
कैसा था वो दूसरा जनम

क्या थी आपकी ज़ाती शिकस्तें
क्या था वो ग़म जो मुझसे भी नहीं कहा
क्या ताउम्र सताते रहे आपको ४७ के डर
क्या मुझपे गुमान करते हुए कभी
हुए थे आपकी आँखों के कोर नम

उस दिन शमशान में ,मैंने खुद जलाया था
वो जिस्म जिसकी ये कहानियां हैं
क्या देख पाए थे आप तब भी
मेरे कठोर बैरागी चेहरे के पीछे
पिघलता हुआ मेरा मन

जिस्म मरने पर भी
रिश्ते कब मरा करते हैं
जैसे उस दिन आपके साथ
थोड़ा मरी थी मैं
वैसे ही मुझमें
अब भी ज़िंदा है आप हरदम

Advertisements

4 विचार “सवाल&rdquo पर;

Aapki Pratikriyaein

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s