चाँद

perigee

इस चाँद के
हज़ार महबूब हैं
विलाप करते भेड़िये
तन्हा ज्वारभाटे
और टूटे दिलों का
मरहम खोजते
मायूस आशिक़

लेकिन चाँद
का मुक़द्दर है
दीवानों की तरह
मिट-मिट के जीना
जी-जी के मरना

मुकम्मल हो के भी
रहना अधूरा
और अधूरेपन में भी
मुक़म्मल रहना

Advertisements

4 विचार “चाँद&rdquo पर;

Aapki Pratikriyaein

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s