पाश – मैं अब विदा लेता हूँ

तुम्हारे सामान में कहीं 

मैंने अपना दिल रखा था

देखना काली जैकट के जेब में

एक चुटकी  इश़्क रखा था

****************************************

कभी अदरक चाय की खुशबू से आती है

किसी बीते लम्हे की खुशबू

इश्क़ में आँखें चखती हैं ज़ायके

ज़बान खुशबू भांप लेती है

***********************************

वो रुक सकता था

मैं रोक सकती थी

लम्हे बस क़ैद रहते हैं

आदमकद शीशों में

**************************************

Advertisements

2 विचार “पाश – मैं अब विदा लेता हूँ&rdquo पर;

Aapki Pratikriyaein

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s