फेस्बुकयाती –

Computer जब से जीवन में आया

सबने virtual संसार बसाया

Internet के हो गए वासी

कोई भी हो अब बात ज़रा सी

status हम  update करेंगे

armchair से ideate करेंगे

online हम activist हो गए

मित्र तो अब एक list हो गए

चिट्ठी जब से e-mail हो गयी

प्यार की बातें खेल हो गयी

chat करो जब चाहो जिससे

अमर प्रेम के रह गए किस्से

सखियाँ पनघट पर

थी बतियाती

अब वे केवल

facebookयाती

और उसकी कोई साख नहीं है

जो कम से कम

न हो Twitterati !

Advertisements